Naat

 Naat Sharif, Islamic Naat, Hindi Naat, Naat Pak, Islami Naat, All Naat, New Naat, Islamic Naat Sharif, नात सरीफ


Mere Dosto zindagi Ek Safar Hai

मेरे दोस्तों ज़िन्दगी एक सता है है कही ठाहेर  जाने की कोशिश न करना
ये दुनिया बड़ी बेवफा है भलना यहाँ दिल लगाने की कोशिश ना करना
मेरे दोस्तों

जादे सफर अपना आमाल -ऐ- बद है फना होने वाले ये सब भहरो बद है
पुरखो के दुश्मान पुरखो के दुश्मान तरे ये सफ़र है कहि डगमगाने की कोशिश ना करना
मेरे दोस्तों

दुनिया की उल्फात सजाए खुदा है नबी से मोहब्बत रजाए खुदा है
उसी की येतायेत से जान्नात मिलेगी कही दूर जाने की कोशिश ना करना
मेरे दोस्तों

बुराई का बदला बुराई नही है सराफत तो ये है भलाई करो तुम
अगार राह में कोई काँटे बिछाये उसे भी सताने की कोशिश ना करना
मेरे दोस्तों

ये इब्लीस शैतान ये दुश्मान हमारा कही लूट ले ना ईमान हमारा
अगर राह में कोई हशीना मिले तो नज़रे मिलाने की कोशिश ना करना
मेरे दोस्तों

नबी के नवासो ने राहे खुदा में गर्दन कटा दी झुकाई नही थी
अगर दिल ज़ज्बे हुसेनी नही है तो मैदा में आने की कोशिश ना करना
मेरे दोस्तों


Mein Tauba Karta Hoon

तेरी बारगाह में मौला मै तौबा करता हूँ
मुझे बख्श दे खुदाया मै तौबा करता हूँ,

तेरी बारगाह में मौला मै तौबा करता हूँ
मेरी जुर्म की सियाही कही करदे ना तबाही
मेरी जुर्म की सियाही कही करदे ना तबाही

मेरे हाल पे क्रम हो मुझे भीख दे इलाही
मेरी मगफिरत हो मौला मै तौबा करता हूँ

मै फिर हूँ मारा मारा ना मिला सहारा
मै फिर हूँ मारा मारा ना मिला सहारा
मेरा बेवफा जहाँ में ना हुआ कही गुजारा
तेरे दर पे लौट आया मै तौबा करता

तेरी बारगाह में मौला मै तौबा करता हूँ

जो गुनाह करते करते हुआ कब्र में उतरना
जो गुनाह करते करते हुआ कब्र में उतरना
मेरा क्या बनेगा  मौला जो तेरा करम ना होगा
तेरे खोफ ने रुलाया मै तौबा करता हूँ

तेरी बारगाह में मौला मै तौबा करता हूँ

यूँही दुनिया में उजागिर मैंने ज़िन्दगी बिता दी
यूँही दुनिया में उजागिर मैंने ज़िन्दगी बिता दी
मैंने अपनी अपनी सब कमाई दोनों हाथो से लुटा दी
मेरे हाथ कुछ ना आया मै तौबा करता हूँ

तेरी बारगाह में मौला मै तौबा करता हूँ