Happy New Year 2018 shayari

Happy New Year 2018 shayari, नया साल मुबारक शायरी 2018, Happy New Year 2018 Hindi shayari, नया साल मुबारक शायरी हिन्दी 2018


pareshani mein mazaq aur khusi mein tana mat do
q k is se rishton mein maujood mohabbat katm ho jati hai
परेसानी में मजाक और खुशी में ताना मत दो
क्यू के इस से रिश्तों में मौजूद मोहब्बत कत्म हो जाती है

Happy New Year 2018 shayari
Happy New Year 2018 shayari

log mujh se bhi keh dete hai aksar duaa le kiye
dekho kis kadar khuda ne mere ayb chupa rakhe hai
लोग मुझ से भी कहे देते है अक्सर दुआ के लिए
देखो किस कदर खुदा ने मेरे एब छुपा रखें है

Happy New Year 2018 shayari, नया साल मुबारक शायरी 2018


khane mein koi zaher ghul de to is ka ilaaz mumkin hai
magar kaan mein koi zaher ghul de to is ka ilaaz na mumkin hai
खाने में कोई ज़हर घुल दे तो इस का इलाज़ मुमकिन है
मगर कान में कोई ज़हर घुल दे तो इस का इलाज़ न मुमकिन है


dokha khane walo ko to waqt ke saath saath sakoon mil jata hai
lekin dokha dene wale ko kabhi sakonn nahi milta
दोखा खाने वालों को तो वक़्त के साथ साथ सकून मिल जाता है
लेकिन दोखा देने वाले को कभी सकून नहीं मिलता

Happy New Year 2018 shayari, नया साल मुबारक शायरी 2018


kisi ko itna majboor nahi karna cahiye k
wo apni khamoshiyan tod kar
tumhari lafzu ki dhazziyan udha de
किसी को इतना मजबूर नहीं करना चाहिये के
वो अपनी खामोशियाँ तोड़ कर
तुम्हारी लाफ्जु की धज्झियाँ उड़ा दे


hum ne charcha sona tha teri sakhawat ka
kiya maloom tha k tum dard bhi dil khol kr dete ho
हमने चर्चा बहोत सोना था तेरी सखावत का
किया मालूम था के तुम दर्द भी दिल खोल कर देते हो .

dusro ko apni safaiyan de kar apna waqt jayen na karen
log inta hi samjhte hai jitni inki aukaat hoti hai
दूसरों क पानी सफैयाँ दे कर अपना वक़्त जाये ना करें
लोग इतना ही समझते है जिनती इनकी औकात होती है

Happy New Year 2018 shayari, नया साल मुबारक शायरी 2018


insaan ki lalach ka piyala kabhi nahi bharta
q k is mein nashukri ke suraag hote hai
jo is ko kabhi bharne nahi dete
इंसान की लालच का पियाला कभी नहीं भरता
क्यू के इस में नासुकरी के सुराग होते हैं
जो इस को भने नहीं देते हैं


kitne tajzub ki baat hai
jab kahi wafadari ka zikr hota hai to hum
insaan kutto ki misaal ki misaal dete hain
कितने ताज्जुब की बात है
जब कही वफादारी का ज़िक्र होता है तो हम
इंसान कुत्तों की मिसाल देते है

Happy New Year 2018 shayari, नया साल मुबारक शायरी 2018