Eyes Shayari

Eyes Shayari, Shayari On Eyes, Aankhein Shayari, Aankhein Hindi Shayari, Nigah Shayari, निगाह शायरी, Khoobsurat Aankhen Ahayari, Teri Aankhe Shayari, आँख पे शायरी, आँख शायरी

NAQAB TO UNKA SIR SE LEKAR PAANV
MAGAR AANKHEIN BAYAAN KAR RAHI THI
MOHABBAT KI SHAUKEEN WO BHI THI

Eyes Shayari
Eyes Shayari

नकाब तो उनका सर से लेकर पाँव तक था
मगर आँखें बयान कर रही थी की मोहब्बत की शौक़ीन वो भी थी

NA KIYA KAR APNE DARD A DIL KO SHAYARI MEIN BAYAN
LOG AUR TOOTH JAATE HAI HAR LAFZ KO APNI DASTAN SAMJH KAR

Aankhein Hindi Shayari
Aankhein Hindi Shayari
न किया कर अपने दर्द ए दिल को शायरी मैं बयान
लोग और टूट जाते है हर लफ्ज़ को अपनी दास्ताँ समझ कर

HUM TO FANA HU GAYE UN KI AANKHEN DEKH KR GALIB
NA JAANE WO AAYINA KAISE DEKHTE HUNGGE

Aankhein Shayari
Aankhein Shayari

हम तो फ़ना हो गए उन को की आँखें देख कर ग़ालिब
ने जाने वो आईना कैसे देखते होंगे

WO KAHNE LAGI NAQAB KE PICHE BHI PAHECHAN
LETE HU HAZARON KE BICH
MEINE MUSKURA KAR KAHA TERI AANKHON SE HI SHURU
HUWA THA ISHQ HAJARON KE BICH

Khoobsurat Aankhen Ahayari
Khoobsurat Aankhen Ahayari
वो कहने लगी नकाब के पीछे भी पहचान लेते हो हजारो के बिच
मैंने मुश्कुरा कर कहा तेरी आखें से ही शुरू
हुवा था इश्क हजारो के बिच

TERI HAR ADAA NASHEELI HAI
ITNI KISI AUR NASHE KI JARURAT HI NA PADA
DOOB JANA CHATA HU TERI AANKON MEIN
ITNA KI NIKALNE KI JARURAT NA PADE

Nigah Shayari
Nigah Shayari
तेरी हर अदा नशीली है इतनी की
किसी और नशे की जरुरत ही न पड़े
डूब जाना चाहता हु तेरी आँखों में
इतना की निकलने की जरुरत न पड़े

SAAQI DEKH ZAMANE NE KAISI TOHMAT LAGAYI HAI
AANKHEIN TERI NASHEELI HAI SHARABI MUJHE KEHTE HAI

Shayari On Eyes Hindi
Shayari On Eyes Hindi
साकी देख ज़माने ने कैसी तुहमत लगायी है
आंकें तेरी नशीली है शराबी मुझे कहते है

KHUDA JAANE MERA KIYA WAJAN HAI UNKI NIGHAHON MEIN
SUNA HAI ADMI KO NAJAR MEIN TOLL LETE HAI
खुदा जाने मेरे किया वजन है उनकी निगाहों में
सुना है आदमी को में तुल लेते है

Shayari On Eyes In Hindi
Shayari On Eyes In Hindi

TERI SAADGI KO NIHARNE KA DIL KARTA HAI
TAMAAM UMR TERE NAAM KARNE KO DIL KARTA HAI
EK MUQAMMAL SHAYARI HAI TU KUDRAT KI
TUJHE GHAZAL BANA KE ZUBAN PE LANE KA DIL KARTA HAI

तेरी सादगी को निहारने का दिल करता है
तमाम उम्र तेरे नाम करने का दिल करता है
एक मुकम्मल शायरी है तू कुदरत की
तुझे ग़ज़ल बनके जुबान पे लेन का दिल करता है

Shayari On Eyes
Shayari On Eyes

YE AANKHIN HAI JO TUMHARI KISI
GHAZAL KI TARHA KHUBSURAT HAI
KOI PADH LE INHE AGAR EK DAFA
TU SAHYAR HO JAYE

Teri Aankhe Shayar
Teri Aankhe Shayar

ये आँखें है जो तुम्हारी किसी
ग़ज़ल की तरह खुबसूरत है
कोई पढ़ ले इन्हें एक दफा तो शायर हो जाए