Sorry Shayari

Sorry Shayari, Sorry Shayari In Hindi, Hindi Sorry Shayari, New Sorry Shayari, Latest Sorry Shayari, Sorry Shayari in Hindi For Girlfriend, Sorry Shayari in Hindi For Friends, Sorry Shayari For Boyfriend, Sorry Shayari For Girlfriend, सॉरी शायरी

DEKHA HAI AAJ MUJHE BHI GUSSE KI NAJAR SE,
MALUM NAHI AAJ WOH KIS KIS SE LADE HAIN.
देखा है आज मुझे भी गुस्से की नज़र से,
मालूम नहीं आज वो किस-किस से लड़े है।


Sorry Shayari

NA TERI SHAAN KAM HOTI NA RUTBA HI GHATA HOTA,
JO GUSSE MEIN KAHA TUMNE WAHI HANS KE KAHA HOTA.
न तेरी शान कम होती न रुतबा ही घटा होता,
जो गुस्से में कहा तुमने वही हँस के कहा होता।


RUTHH KAR KUCHH AUR BHI HASEEN LAGTE HO,
BAS YEHI SOCH KAR TUM KO KHAFA RAKHA HAI.
रूठ कर कुछ और भी हसीन लगते हो,
बस यही सोच कर तुम को खफा रखा है।


TUJHE MANAAUN KE APNI ANAA KI BAAT SUNU,
ULAJH RAHA HAI MERE FAISLON KA RESHAM PHIR.
तुझे मनाऊँ कि अपनी अना की बात सुनूँ,
उलझ रहा है मेरे फ़ैसलों का रेशम फिर।


KHATA HO GAAYI TOH PHIR SAZAA SUNA DO,
DIL MEIN ITNA DARD KYUN HAI WAJAH BATA DO.
DER HO GAYI HAI YAAD KARNE MEIN ZARUR,
LEKIN TUMKO BHULA DENGE YEH KHAYAL MITA DO.


खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो।

DIL SE TERI YAAD KO JUDA TOH NAHI KIYA,
RAKHA JO TUJHE YAAD KUCHH BURA TOH NAHI KIYA,
HUM SE TU NARAAJ HAI KIS LIYE BATA JARAA,
HUMNE KABHI TUJHE KHAFA TOH NAHI KIYA.


दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया।

TUM KHAFA HO GAYE TOH KOYI KHUSHI NA RAHEGI,
TUMHARE BINA CHIRAAGON MEIN ROSHNI NA RAHEGI,
KYA KAHEIN KYA GUJREGI ISS DIL PAR,
ZINDA TOH RAHENGE PAR ZINDGI NA RAHEGI.


तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी,
क्या कहे क्या गुजरेगी इस दिल पर,
जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी।

HUM RUTHHE TOH KISKE BHAROSE RUTHHE,
KAUN HAI JO AAYEGA HUMEIN MANAANE KE LIYE,
HO SAKTA HAI TARAS AA BHI JAAYE AAPKO,
PAR DIL KAHAN SE LAYEIN AAPSE RUTHH JANE KI LIYE.


हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें,
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए,
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये।

KABHI SAPNE KO BHI DIL SE LAGAYA KARO,
KISI KE KHWABO MEIN AAYA JAYA KARO,
JAB BHI JEE HO KE KOYI TUMHEIN BHI MANAYE,
BAS HUMEIN YAAD KARKE RUTHH JAYA KARO.


कभी सपने को भी दिल से लगाया करो,
किसी के ख्वाबों में आया-जाया करो,
जब भी जी हो कि कोई तुम्हें भी मनाये,
बस हमें याद करके रूठ जाया करो।

NIKLA KARO IDHAR SE BHI HOKAR KABHI KABHI,
AAYA KARO HUMARE BHI GHAR PAR KABHI KABHI,
MANA KE RUTHH JANA YUN AADAT HAI AAPKI,
LAGTE MAGAR HAIN ACHHE YEH TEVAR KABHI KABHI.


निकला करो इधर से भी होकर कभी कभी, आया करो हमारे भी घर पर कभी कभी,
माना कि रूठ जाना यूँ आदत है आप की,
लगते मगर हैं अच्छे ये तेवर कभी कभी