Category: Gulzar Shayari

Gulzar Shayari, Gulzar Quotes, Gulzar Shayari In Hindi, Gulzar Shayari On Life, Gulzar Love Shayari, Best Of Gulzar, Gulzar Ki Shayari in hindi, गुलजार शायरी, गुलज़ार की शायरी, गुलज़ार शायरी, Gulzar Sahab Shayari 


ग़म मौत का नहीं है,
ग़म ये के आखिरी वक़्त भी
तू मेरे घर नहीं है….
निचोड़ अपनी आँखों को,
के दो आंसू टपके..
और कुछ तो मेरी लाश को हुस्न मिले…..
डाल दे अपने आँचल का टुकड़ा…
के मेरी मय्यत पे कफ़न नही है

Gulzar Shayari


Gulzar Hindi Font Shayari

बेबस निगाहों में है तबाही का मंज़र,
और टपकते अश्क की हर बूंद
वफ़ा का इज़हार करती है……..
डूबा है दिल में बेवफाई का खंजर,
लम्हा-ए-बेकसी में तसावुर की दुनिया
मौत का दीदार करती है……….
ऐ हवा उनको कर दे खबर मेरी मौत की… और कहेना,
के कफ़न की ख्वाहिश में मेरी लाश
उनके आँचल का इंतज़ार करती है


Gulzar Hindi Font Shayari

“तेरी यादों के जो आखिरी थे निशान,
दिल तड़पता रहा, हम मिटाते रहे…
ख़त लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में,
उसको पढते रहे और जलाते रहे


Gulzar Hindi Font Shayari

तन्हाई की दीवारो पे घुटन का पर्दा झूल रहा है…
बेबसी की छत के नीचे,कोई किसी को भूल रहा है.


Gulzar Hindi Font Shayari

तेरे- करम- तो -हैं इतने कि याद हैं अब तक,
तेरे सितम हैं कुछ इतने कि हमको याद नहीं


Gulzar Hindi Font Shayari

मेहँदी वाले हाथों के कन्धों से
दुपट्टा सरकना,
आफतें क्या क्या


Gulzar Hindi Font Shayari

शायर बनना बहुत आसान है…
बस एक अधूरी मोहब्बत की मुकम्मल डिग्री चाहिए.


Gulzar Hindi Font Shayari

कोई पुछ रहा हे मुजसे मेरी जीन्दगी की कीमंत…. मुझे याद आ रहा है तेरा हल्के से मुस्कुराना

Gulzar Poetry

Gulzar Poetry, Gulzar Poetry In Hindi, Hindi Gulzar Poetry, Gulzar Poetry, गुलज़ार पोएट्री

Gulzar Poetry
Gulzar Poetry

चंद रातों के खुवाब
उम्र भर की नींद मांगते है

यादों की अलमारी में देखा,
वहां मुहब्बत फटेहाल लटक रही है

ना जाने किस तरह का संग-तराश था वो भी।
मुझे इस तरह तराशा है, के पाश-पाश हो गए हैं

Gulzar Hindi Poetry
Gulzar Hindi Poetry

आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है
जो भी छिपा रखा है मन में लूटा देने का मन है…

एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद..
दूसरा सपना देखने के हौसले को ‘ज़िंदगी’ कहते हैं..

तेरे उतारे हुए दिन पहनके अब भी मैं,
तेरी महक में कई रोज़ काट देता हूँ !!

कि गहरी वादियाँ ख़ाली कभी नहीं होतीं
ये चिलमन बारिशों की भी उठा दूँगा, जब आओगे !

Gulzar Poetry Hindi Me
Gulzar Poetry Hindi Me
होंठ झुके जब होंठों पर,
साँस उलझी हो साँसों में…
दो जुड़वा होंठों की, बात कहो आँखों से.!!
क्यूं इतने लफजो में मुझे चुनते हो,
इतनी ईंटें लगती है क्या एक खयाल दफनाने में?

बहुत मुश्किल से करता हूँ,
तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है,
पर गुज़ारा हो ही जाता है…

“पूछ कर अपनी निगाहों से बता दे मुझको,
मेरी राहों के मुकद्दर में सहर है कि नही..”

गुल से लिपटी हुई तितली को गिराकर देखो,
आँधियों तुमने दरख्तों को गिराया होगा।

Gulzar Poetry In Hindi
Gulzar Poetry In Hindi

“कभी कभी तो आवाज़ देकर
मुझको जगाया ख़्वाबो ने..!”

अपने होठों से चुन रहा हूँ
तुम्हारी सासों की आयतों को
कि जिसम के इस हसीन काबे पे
रूह सजदे बिछा रही है।

बहोत अंदर तक जला देती है,
वो शिकायतें जो बयाँ नही होती..

Gulzar Saheb Ki Poetry
Gulzar Saheb Ki Poetry

महदूद हैं दुआएँ मेरे अख्तियार में..
हर साँस हो सुकून की तू सौ बरस जिये…

”ये तुमने ठीक कहा है, तुम्हें मिला ना करूं
मगर मुझे ये बता दो कि क्यों उदास हो तुम?”
-Gulzar Hindi Font Shayari

इक उर्म हुई मैं तो हंसी भूल चुका हूँ,
तुम अब भी मेरे दिल को दुखाना नही भूले ।

Top Gulzar Poetry
Top Gulzar Poetry